भगवान विष्णु जी की आरती – ॐ जय जगदीश हरे..

Spread Hinduism

भगवान विष्णु जी को जगत का पालनहार कहा जाता है भगवान विष्णु जी की आरती करने से घर में सुख समृद्धि का वास रहता है। घर में सुख शांति रहती है। श्री हरी विष्णु जी की भक्ति करने से माँ लक्ष्मी जी भी प्रसन्न होती हैं। जिससे घर में दरिद्रता दूर होती है।

हिंदू धर्म के अनुसार गुरूवार का दिन भगवान विष्णु को समर्पित किया जाता है। इस दिन सुबह उठकर मंदिर में या पूजा स्थल में जाकर विष्णु की मूर्ति के सामने घी का दीपक जलाना चाहिए उसके बाद भगवान् विष्णु का ध्यान करना चाहिए।ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।

आइये भगवान् विष्णु की संपूर्ण आरती पढ़ते हैं, व विष्णु जी का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

भगवान विष्णु जी की आरती हिन्दी में (Vishnu Aarti)

vishnu ji ki aarti

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥

जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का।
सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय…॥

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी।
तुम बिन और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय…॥

तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी।
पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय…॥

तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय…॥

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय…॥

दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।
अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय…॥

विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय…॥

तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा।
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा॥ ॐ जय…॥

जगदीश्वरजी की आरती जो कोई नर गावे।
कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय…॥


ये आरती भी पढ़ें – गणेश जी की आरती, हनुमान जी की आरती

Shri Vishnu Aarti Image Download Free

vishnu aarti

Download This Image

Related: लक्ष्मी चालीसा पढ़ें


Lord Vishnu Aarti English Translation

Om jai Jagdish hare, Swami jai Jagdish hare,
Bhakt jano ke sankat Dass jano ke sankat, Kshan mein door kare,
Om jai Jagdish hare…

Jo dhyave phal pave, Dukh bin se man ka, Swami dukh bin se man ka
Sukh sampati ghar aave, Kasht mite tun ka,
Om Jai Jagdish hare…

Maat pita tum mere, Sharan gahu mein kiski, Swami sharan gaho kiski
Tum bin aur na dooja, Aas karun mein jiski,
Om jai Jagdish hare

Tum Puran Parmatma,Tum Antaryami, Swami tum Antaryami
Par Braham Parmeshwar, Tum sabke swami,
Om jai Jagdish hare

Tum karuna ke sagar, Tum palan karta, Swami tum palan karta
Mein sevak tum swami, Kripa karo Bharta,
Om jai Jagdish hare

Tum ho ek agochar, Sab ke pranpati, Swami sab ke pranpati
Kis vidh milun Dyamaye, Tum ko main kumti,
Om jai Jagdish hare

Deen bandhu dukh harta, Tum rakshak mere,
Apne haath uthao, Dwar pada tere,
Om jai Jagdish hare

Vishay vikar mitao, Paap haro Deva,
Shradha bhakti badao, Shradha prem badao, Santan ki seva,
Om jai Jagdish hare

shri hari vishnu

भगवान विष्णु आरती PDF डाउनलोड

related articles : विष्णु चालीसा हिन्दी, Laxmi Chalisa

Latest post

Our categories

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.